दिव्य महाराष्ट्र मंडल

डिजिटल दुनिया में आंखों का व्यायाम बेहद जरूरी.... मंडळ के शिविर में लोग कर रहे अभ्यास

रायपुर। आज की भागमभाग और आधुनिक युग में हम सभी का ज्यादातर समय मोबाइल, लैपटाप और कंप्यूटर के सामने गुजरता है। ऐसे में इन उपकरणों के प्रकाश हमारी आंखों की रौशनी को प्रभावित करती है। ऐसे में आंखों का नियमित व्यायाम बेहद जरूरी होता है। उक्त बातें महाराष्ट्र मंडळ की आध्यत्मिक समिति द्वारा चलाए जा रहे योग शिविर के दौरान प्रशिक्षक और समिति की प्रमुख आस्था काळे ने कहीं।

आस्था काळे ने आगे कहा कि जब आप डिजिटल मीडिया के साथ काम करते हैं और ध्यान कमज़ोर होता है, तो पलकें झपकाना एक खोई हुई आदत बन जाती है। पलकें झपकाना एक ऐसा व्यायाम है जो थकी हुई, खुजली वाली और सूखी आँखों के लिए अच्छा है। इसके साथ आंखों को घुमाना भी आंखों के लिए अच्छा व्यायाम है। इसमें आपको आराम से बैठना होगा। यह 2 मिनट का व्यायाम है। सबसे पहले अपनी आंखों को खुली रखते हुए घड़ी की दिशा में घुमाएं और फिर घड़ी की विपरीत दिशा में घुमाएं। इसे धीरे-धीरे करें, आंखों को जितना हो सके उतना फैलाने की कोशिश करें। यह आँखों का व्यायाम आपकी आंखों को आराम देगा। इस व्यायाम को लगभग 2-3 मिनट तक करें और आप बेहतर तरीके से ध्यान केंद्रित कर पाएंगे।

बतादें कि महाराष्ट्र मंडळ की योग समिति द्वारा प्रतिदिन सुबह चलाए जा रहे आनलाइन योग शिविर में प्रतिदिन बड़ी संख्या में लोग जुड़ रहे है। शिविर में शामिल होने वाले लोगों को इसका लाभ भी मिल रहा है। अभी की क्लासेस में प्रतिदिन सूर्य नमस्कार, प्राणायाम के साथ नियमित रुप से आंखों के यौगिक व्यायाम कराए जा रहे है।